सेप्टिगो पशु के शरीर में सेप्टिक के निवारण हेतु होम्योपैथिक पशु औषधि

205.00

सेप्टिगो

पशु के शरीर में सेप्टिक के निवारण हेतु होम्योपैथिक पशु औषधि

सेप्टिगो एक बेहतरीन एवं कारगर होम्योपैथिक पशु औषधि है जो की पशु के खुले घाव, कान में इन्फेक्शन, या किसी भी प्रकार के परिस्तिथि जो सेप्टिक पैदा करे, को ठीक करती है | यदि गाय या भैंस के ब्याने के बाद सफाई न होने से मैट्रिटिस या पायोमेट्रा का इन्फेक्शन हो तो भी सेप्टिगो बेहद कारगर दवा है | सेप्टिगो पशुओं में मेटराइटिस या पायोमेट्रा की सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवा है |

ये विशेष होम्योपैथीक पशु औषधि उत्पाद जानी मानी होम्योपैथिक वेटरनरी कंपनी गोयल वैट फार्मा प्रा० लि० द्वारा पशु पलकों के लिए बनाये गए है | यह कंपनी आई० एस० ओ० सर्टिफाइड हैं, तथा इसके उत्पाद डब्लु० एच० ओ० -जि० ऍम० पी० सर्टिफाइड फैक्ट्री मैं बनाये जाते हैं | सभी फॉर्मूले पशु चिकित्सकों द्वारा जांचे व परखे गए हैं तथा पिछले 40 वर्ष से अधिक समय से पशु पालकों द्वारा उपयोग किये जा रहे है |

सेप्टिगो

पशु के शरीर में सेप्टिक के निवारण हेतु होम्योपैथिक पशु औषधि

सेप्टिगो एक बेहतरीन एवं कारगर होम्योपैथिक पशु औषधि है जो की पशु के खुले घाव, कान में इन्फेक्शन, या किसी भी प्रकार के परिस्तिथि जो सेप्टिक पैदा करे, को ठीक करती है | यदि गाय या भैंस के ब्याने के बाद सफाई न होने से मैट्रिटिस या पायोमेट्रा का इन्फेक्शन हो तो भी सेप्टिगो बेहद कारगर दवा है | सेप्टिगो पशुओं में मेटराइटिस या पायोमेट्रा की सबसे अच्छी होम्योपैथिक दवा है |

खुराक :

5-10 मिली दिन में तीन बार गुड़ के साथ अथवा पीने के पानी में या रोटी पर डाल कर खिलाएं |

प्रस्तुति :

200 मि0ली0 की बोतल में उपलब्ध |

HOMEOPATHIC DRUGS USED IN THE MEDICINAL FORMULATION

This unique formulation was brought up by the leading Homeopathic Veterinary Medicine producing company Goel Vet Pharma Pvt Ltd. The company is certified under WHO GMP practices which highlight its hygienic manufacturing facilities. It gained the trust of thousands of doctors and farmers who are prescribing this medicine with excellent measurable results on the milk yield of an animal.

Pyrogenium
It is a wonderful cure for all septic conditions that are common in large animals. It has also been proved that Pyrogenium is an amazing and dynamic homeopathic antiseptic in treating septic fevers, particularly puerperal or conditions that result after parturition.

Pulsatilla
It is an eminent remedy that addresses all female animals related issues. These include delayed estrous cycle, cystitis, estrous-related restlessness, and other related symptoms. It is the best remedy for headaches and migraine, swollen glands, inflammation, and pain in the bones and joints as in rheumatic arthritis disorder, bleeding from the nose, varicose veins, mumps, measles, toothache, acne, frequent urination, and incontinence, are all the symptoms that can be improved with this drug.

Secal Cornatum
Burning sensation, especially of the internal organs, dryness in the mucosa,  burning sensation in the stomach and bowels, mouth and throat, the nose and air passages, and in the lungs can be cured with this remedy.

Helonias
The symptoms of anemia, weakness, languor, loss of appetite, eructations, fullness, cramps, and painful congestion of the stomach can be improved with the use of this remedy.

Sepia
One of the most important uterine remedies that act on the portal system correcting venous congestion and stasis, especially in female animals. It is an approved remedy for improving the SEXUAL VITALITY.

Silicea
Prescribed for sinusitis, swollen glands, inflammations of the eye, blemishes on the skin, bone or joint disorders, migraines, and other types of headaches, back pain, toothaches, and frequent colds, hard lumps in the mammae, etc. Suggested when the nipple is drawn in like a funnel, inflamed breast, swollen, hard, and sensitive to touch (Mastitis).

Note: All the above mentioned symptomatic description of the homeopathic drugs is taken from approved literature of homeopathy with an underlying base from Homeopathic Pharmacopeia of India.

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “सेप्टिगो पशु के शरीर में सेप्टिक के निवारण हेतु होम्योपैथिक पशु औषधि

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Homeopathic Veterinary Medicine

पशु को दवा देने का तरीका

जल्दी व प्रभावी नतीजों के लिए कोशिश करने की होम्योपैथिक दवा पशु की जीभ से लग के ही जाये | होम्योपैथिक पशु औषधियों को अधिक मात्रा में न देवें, बार बार व कम समयांतराल पर दवा देने से अधिक प्रभावी नतीजें प्राप्त होते हैं | पिने के पानी में अथवा दवा के चूरे को साफ हाथों से पशु की जीभ पर भी रगड़ा जा सकता है |

तरीका 1

गुड़ अथवा तसले में पीने के पानी में दवा या टेबलेट या बोलस को मिला कर पशु को स्वयं पिने दें |

तरीका 2

रोटी या ब्रेड पर दवा या टेबलेट या बोलस को पीस कर डाल दें तथा पशु को हाथ से खिला दें |

तरीका 3

थोड़े से पीने के पानी में दवा को घोल लें तथे एक 5 मि0ली0 की सीरिंज (बिना सुईं की ) से दवा को भर कर पशु के मुँह में अथवा नथुनों पर स्प्रै कर दें | ध्यान दें की पशु दवा को जीभ से चाट ले |

नोट : कृपया दवा को बोतल अथवा नाल से न दें